युद्ध में असफ़ल वो योद्धा नहीं होता, जो लड़कर नीचे गिर जाता है असफल वो होता है -

जो नीचे गिरने के बाद पुनः उठकर लड़ने का साहस भी खो बैठता है। 

बार बार असफ़ल होने से आपको सफ़लता के बारे में नई सीख मिलेगी।

और अगर आप बार बार असफल होने के बाद भी उन गलतियों से सीख कर प्रयास करोगे तो सफ़लता आपको जरूर मिलेगी।

असफल हो गलत बात नहीं है, गलत बात ये है की आप अपनी उस असफ़लता से कुछ सीख नहीं रहें हैं।

अगर आपको समझ नहीं आ रहा की बार बार असफल क्यों हो रहे हैं तो आप अपना एक मेंटर ढूढ़िये और उनसे सीखिए।

लेकिन एक बात हमेशा याद रखे रहिये अगर आप असफल होने के बाद प्रयास करेंगे तो आपको सफलता भी एक दिन जरूर मिलेगी।

जैसी चींटी एक मिस्ठान का एक टुकड़ा लेकर बार बार गिरती लेकिन बिना हार माने वो हर बार प्रयास करती है और अंत में वह अपनी मंजिल तक पहुंच जाती है।

इसलिए खुद ओर विश्वास रखिये और धैर्य से अपना काम कीजिये, आप भी सफ़ल हो जायेंगे।

ऐसे ही और पोस्ट के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें। 

Click Here